सोशल

अहमदाबाद के बच्चे पुराने नोटों से लैंप और तकिए बना रहे हैं !

Publish Date: 25-04-2017 Total Views :245

अहमदाबाद

नोटबंदी के बाद हम आप तो 2000 की पिंकी लेकर खुश हो गए. लेकिन RBI के सिर आ गए 1000-500 के वो नोट जो बैंकों में जमा हुए थे. ढेर सारे नोट थे, पूरे 14 लाख करोड़ कीमत के. RBI ने नोट मशीन में डाल कर कतर दिए. लेकिन फिर मुद्दा खड़ा हुआ कि कतरन का क्या किया जाए, वहीं NID की मदद लेने का खयाल आया.

नआईडी की स्टूडेंट भी खुश हैं. क्योंकि जो आइटम वो बना रहे हैं, वो लंबे समय तक टिकेगा. वजह है नोट बनाने में इस्तेमाल होने वाला मटेरियल. ये न पानी में गलता है और न रंग छोड़ता है. दो चार ऐसी ही खूबियां और हो जातीं तो उसको आत्मा डिक्लेयर कर दिया जाता :p एनआईडी के प्रोफेसर प्रवीण सिंह सोलंकी ने इस काम को प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान से जोड़ दिया. उनके मुताबिक ये कतरन अगर काम में न लाई जाती तो कचरे का ढेर ही बढ़ातीं. लेकिन अब इससे लोगों के घरों के लिए चीज़ें बनेंगी.

एनआईडी अब एक प्रतियोगिता करवाने वाला है जिसमें इन नोटों के इस्तेमाल के और तरीके खोजे जाएंगे. तो भईया जिनके पास अभी भी पुराने नोट पड़े हैं, और इसी टेंशन में नींद नहीं आती तो एनआईडी चले जाइए. उनसे एक अच्छा सा तकिया बनवाइए और चैन की नींद सोइए

Source:thelallantop.com